Blockchain क्या है और काम कैसे करता है Full Explained

आपने कभी ना कभी तो Criptocurrency का नाम तो सुना ही होगा और अगर Criptocurrency का नाम सुना है तो आपने Bitcoin का नाम भी जरूर सुना होगा अभी हाल ही की बात है कि Bitcoin करेंसी की प्राइस $20000 हो गई थी यानी कि लगभग 19 लाख से लेकर 20 लाख तक हो गई थी क्या आप जानते हैं कि इसके पीछे Technology कौन सी है या फिर आप बैंकिंग अथवा निवेश के बारे में अच्छे से जानते होंगे तो आपको मालूम होगा कि इस तरीके की टेक्नोलॉजी वहां पर इस्तेमाल की जाती है लेकिन आपने कभी इसे ध्यान भी नहीं दिया होगा Blockchain Technology हमारे आईटी इंडस्ट्री को बदलने में एक महान योगदान दिया है जिस प्रकार एक समय में Modern Application Development का निर्माण Linux से होता था उसी तरीके से Blockchain Technology का इस्तेमाल आज की Digital तरीके में हो रहा है और लोगों का मानना है कि आने वाले कुछ समय में Blockchain Technology पर आधारित बहुत सी ऐसी चीज भी होने वाली है जो आईटी इंडस्ट्री को बिल्कुल स्मार्ट बना देगी और कुछ ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी एक्सपर्ट का मानना है कि यह धीरे धीरे बहुत ही तेजी से बढ़ती जा रही हैं लेकिन इसके लिए हमें ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी को पूर्ण तरीके से समझना होगा कि यह है क्या और काम कैसे करती हैं तो चलिए हम आज इसके बारे में आपको पूरी जानकारी देते हैं और समझाते हैं कि ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है और यह किस तरीके से काम करती हैं

यह भी पढ़े : Fingerprint Scanner kaise Kaam Karta Hai

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है

Blockchain Technology एक Data Storage Digital Leader है जो सभी ऑनलाइन रिकॉर्ड को कलेक्ट करके रखता है जिसे कोई ट्रैक अथवा जान नहीं सकता जिस तरीके से हमारे बैंक में डेबिट किया हुआ और क्रेडिट किया हुआ पैसा का रिकॉर्ड कंप्यूटर सिस्टम में होता है ठीक उसी प्रकार यह एक ऑनलाइन Digital Leader Technology है

Source – dlt.com

और यह बहुत ही सिक्योर और बहुत ही फास्ट तकनीकी है जो बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है आने वाले कुछ समय में इसका इस्तेमाल आईटी इंडस्ट्री में बहुत ही जोरों शोरों से होने वाला है अगर आसान भाषा में कहूं कि यह एक डिजिटलाइज डिसेंट्रलाइज लेसर डेटाबेस होता है जिसकी जानकारी किसी के पास नहीं होती है सिर्फ इसके Leader में सभी रिकॉर्ड होते है जिसे कोई ट्रेस नहीं कर सकता है और किसी का इस पर अधिकार नहीं है इस टेक्नोलॉजी को ही Blockchain Technology कहते है

यह भी पढ़े : What is Artificial Intelligence (AI) क्या है Full Explained

ब्लॉकचेन कैसे काम करते हैं :

मान लीजिए दो कंप्यूटर सिस्टम हैं और दोनों में लाखो ट्रांजैक्शंस हुए हैं और जब एक सिस्टम से दूसरे सिस्टम में ट्रांजैक्शन करना होता है तो पहले उसे अकाउंट को जल्द से जल्द चेक करना और उसे एक्सेस देना ताकि उसमें ट्रांजैक्शन हो सके और इसका रिकॉर्ड ऑनलाइन Digital Leader Database तैयार हो सके जिस तरीके से किसी गवर्नमेंट ऑफिस में जब किसी की सैलरी आती है तो एक साथ सभी की सैलरी एक ही समय पर पहुंच जाती हैं ठीक उसी प्रकार यह एक ही बार में लाखों ट्रांजैक्शन को एक्सेस करने तथा ट्रांजैक्शंस को वेरीफाई करके उन्हें उन्हें पूरा करता है जिसे Proof Of Work कहा जाता है

ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी नेटवर्क :

ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी नेटवर्क मुख्यता 3 रूपों में काम करता है

1 – Private Key Criptography

2 – P2P Network ( Peer To Peer )

3 – Program ( The Blockchain ‘s Protocol )

यह भी पढ़े :USB Debugging क्या होता है Full Explained

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के जनक

Satoshi Nakamoto  ने सन 2008 में Blockchain Technology को प्रस्तुत किया था ताकि वह एक डिसेंट्रलाइज टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देना चाहते थे और वह क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन में उसे ट्रांजैक्शन लेजर के हिसाब से कर सकें ताकि किसी भी व्यक्ति को उनके पैसों को कंट्रोल करने की क्षमता ना हो और कोई भी गवर्नमेंट उन पैसों को एक्सेस या मॉनिटर ना कर सके ब्लॉकचेन का जहां नाम आता है वहां बिटकॉइन का भी नाम जरूर आता है जिसे Satoshi Nakamoto ने ही बनाया था लोगों का मानना है कि इस नाम का व्यक्ति कोई था ही नहीं बस यही काल्पनिक करैक्टर हैं और यही सत्यता है इसके बारे में अभी तक कुछ साक्ष्य उपलब्ध नहीं है लेकिन ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल जिस तरीके से हो रहा है ऐसा लगता की आने वाले कुछ समय में यह डबल स्पेंडिंग प्रॉब्लम को हल कर सकता है क्योंकि इस पर किसी का अधिकार नहीं है यह पूर्ण तरीके से डिसेंट्रलाइज्ड सिस्टम है और बहुत से देश में इसे अभी आधिकारिक दर्जा प्राप्त नहीं हुआ है

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी की डिमांड क्यों है

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी एक ऐसा मशीनरी एल्गोरिथ्म है जो कि हम सभी को Highest Accountability और Stability तथा Security प्रदान करता है अगर कोई Miss Transaction इंसानों से ना हो तो मशीन गलती नहीं करेगा Because सभी ट्रांजैक्शन किसी थर्ड पार्टी को एक्सेस करके नहीं होता है बल्कि डायरेक्ट P2P (पीयर टू पीयर) दो लोगों के बीच में होता है इसके बीच में कोई तीसरा Connected Nodes या वैलिडेशन नहीं होता है इसलिए इस टेक्नोलॉजी की जरूरत अब धीरे-धीरे बढ़ती जा रही है

यह भी पढ़े : eMMC UFS Storage क्या है

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का भविष्य में उपयोग :

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का भविष्य में लगभग सभी जगह इसका उपयोग होने वाला है जिस में मुख्यतः निम्न है जो हम आपको बताने जा रहे हैं

1 – Financial :

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का फाइनेंसियल एरिया में आने वाले समय में बहुत ज्यादा इस्तेमाल होने वाला है जैसे कि कोई बड़ी कंपनी फाइनेंशियल इंश्योरेंस रियल इस्टेट कॉन्ट्रैक्टर इंटरटेनमेंट वाली इंडस्ट्री हो तो वहां पर ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल आगे चलकर बहुत ज्यादा होने वाला है जिससे सभी ट्रांजैक्शंस ऑनलाइन लीजिए की मदद से हो सके और इसको बढ़ावा दिया जा सके

2 – Personal Identification :

Governments अक्सर बहुत सारी डाटा को मैनेज किया करते हैं जैसे कि Personal Data , Death Certificate , Marriage Certificate ,Passport और बहुत से गवर्नमेंट्स डाटा होते हैं जो आगे चलकर ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में इस्तेमाल किया जा सकता है और इसे आसानी से मैनेज किया जा सकता है क्योंकि यह काफी सिक्योरिटी और स्टोर रहता है

3 – पेमेंट :

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी सबसे बड़ी बात यह है कि अब पेमेंट प्रोसेसिंग को बहुत ही आसानी से कंट्रोल कर सकता है चाहे वह एक ही बार में करोड़ों ट्रांजैक्शंस क्यों ना हो आगे चल कर इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल पेमेंट प्रोसेसिंग में बहुत ही ज्यादा देखने को मिलेगा क्योंकि गवर्नमेंट भी डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देना चाहती हैं

यह भी पढ़े : SSD vs HDD Kya Hota Hai

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के लाभ

1 — Blockchain Technology स्मार्ट डिवाइस को एक दूसरे से कमेंट करने में सहायता प्रदान करता है

2 — यह सब ट्रांजैक्शंस को सिक्योरिटी स्टोर रखता है ताकि स्टेबिलिटी प्रदान हो सके

3 —– यह ऑनलाइन आईडेंटिटी को डिसेंट्रलाइज्ड बनाता है जिस पर सिर्फ आपका अधिकार हो सके

4 — यह लोगो को सीधा ट्रांजैक्शंस करने की अनुमति प्रदान करता है जो कि P2P ( Peer TO Peer ) नेटवर्क पर आधारित होता है

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के हानि

1 — ब्लॉकचेन सिक्योर्ड होने के साथ ही है बहुत ही क्रिटिकल भी हैं अगर हमसे कहीं गलती हुई तो हमारा ट्रांजैक्शंस हमेशा के लिए खत्म हो सकता है और उसका पता भी हम नहीं कर सकते

2 — इसका गवर्नमेंट पर कोई अधिकार नहीं है इसलिए हम कोई कानूनी कार्रवाई भी नहीं कर सकते हैं

3 — अगर हमारा प्राइवेट नेटवर्क की गायब हो गया तो हमसे अपने ट्रांजैक्शंस को एक्सेस नहीं कर सकते हैं

4 — एक बार ट्रांजैक्शन सो जाने पर हम उसे दिवस नहीं कर सकते हैं

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का भविष्य

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी आने वाले कुछ सालों में एक बहुत ही बड़ा योगदान देगा जो कि Financial और Digital बहुत ही Secure And Stable होगा इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल आईटी इंडस्ट्री में बहुत ही जोर शोर से होने वाला है ताकि पूरी दुनिया में इसका इस्तेमाल हो सके

जानकारी अच्छी लगे तो शेयर जरूर करना Dear !!!!Thank You

About Niraj Kumar 22 Articles
Niraj Kumar is the Author & Co-Founder of 5gspeed.in . And He has Completed the Graduation And Computer Diploma . He is Passionate Tech Blogger and Digital Marketing. Thank You

1 Trackback / Pingback

  1. Amazon Flex क्या है हिंदी में पूरी जानकारी 5GSPEED

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*