CPU Kya hai

CPU Kya hai सी.पी.यू. क्या है What is CPU in Hindi 2021

क्या आप जानते है कि सी.पी.यू.क्या है (CPU Kya hai) इसे कंप्यूटर का मस्तिष्क भी कहते हैं। इसकी तुलना हम मानव मस्तिष्क से कर सकते हैं जिस प्रकार मनुष्य के शरीर के अन्य भाग मस्तिष्क से निर्देश लेकर ही कार्य करते हैं, उसी तरह कंप्यूटर के सभी अंग Input, Output तथा Memory आदि सी.पी.यू. से निर्देश ग्रहण करते हैं। यह इकाई कंप्यूटर से संबंधित समस्त क्रियाओं को नियंत्रित करता है व इनकी देखरेख करता है।

CPU से कुछ लोगो में गलत अवधारणा भी है कि जब भी हम कंप्यूटर के बारे में सोचते है तो हमें CPU बॉक्स डब्बे का ख्याल नज़र में आता है पर ऐसा नहीं है CPU बॉक्स सिर्फ एक कैबिनेट बॉक्स होता है जहा सभी हार्डवेयर को एक साथ जोड़ा जाता है और अगर CPU सिर्फ कंप्यूटर के कैबिनेट बॉक्स का एक अंग Processor होता है न की यह कोई डिवाइस होता है

यह सिर्फ कंप्यूटर कंप्यूटर में निर्देशों को भेज कर उनसे प्रोसेस कराकर उसका आउटपुट प्राप्त करता है। तो चलिए हम आपको सी.पी.यु. क्या है CPU Kya hai और उसके सी.पी.यु. कैसे काम करता है और सी.पी.यु. के भाग कौन कौन से है उन सबके बारे में विस्तार से बताते है।

सी.पी.यु. क्या है CPU Kya hai

सीपीयू एक इलेक्ट्रॉनिक चिप होता है जिसे हम Micro Processor कहते है जो यूजर के द्वारा दिया गए डाटा और निर्देशों को इनपुट करता है और इनपुट किये गए डाटा को प्रोसेस करता है। और फिर यूजर को आउटपुट प्रदान करता है इस पुरे प्रोसेस को प्रोसेसिंग कहते है इसीलिए इस CPU को कंप्यूटर का दिमाग भी कहते है। यूजर के द्वारा दिए गए सभी डाटा को सीपीयू में ही स्टोर किया जाता है।

सी.पी.यु. के भाग

सी.पी.यु. के तीन भाग होते हैं

(1)- कन्ट्रोल यूनिट (CU)- इनपुट युक्तियों द्वारा जो भी सूचनाएं कंप्यूटर में भेजी/डाली जाती हैं, अरे सर्वप्रथम स्मृति कोष (मेमोरी) में संग्रह (store) हो जाती हैं। कंप्यूटर का स्मृति कोष मानव मस्तिष्क की तरह कार्य करता है। जिस प्रकार हम तथ्यों तथा सूचनाओं को अपने मस्तिष्क में धारण कर लेते हैं तथा आवश्यकता पड़ने पर उनका पुनः स्मरण करते हैं तथा उनके आधार पर कार्य करते हैं।

ठीक उसी तरह कंप्यूटर भी सूचनाओं को अपने स्मृति इकाई में धारण कर लेता है। पुनः हमारे द्वारा निर्देशित किए जाने पर अपेक्षित गणनाए करने के लिए सी.पी.यू. क्रियाशील हो जाती है। इस तरह कंट्रोल यूनिट ही कंप्यूटर को नियंत्रित करती है।

इसे भी पढ़े : कंप्यूटर क्या है

(2)- अर्थमैटिक व लॉजिक यूनिट (Arithmetic and Logic Unit- ALU)- ALU काका से गणना करना है। कंप्यूटर से गणना सम्बन्धी समस्त कार्य ए. एल. यू. द्वारा संपन्न की जाती है; जैसे- जोड़ना, घटाना, गुणा, भाग आदि अर्थमैटिक द्वारा तथा And, Or. Not आदि लॉजिक द्वारा पूर्ण किए जाते हैं। आंकड़ों की तुलना के आधार पर कंप्यूटर अपने कार्य को करने की दिशा को तय करता है।

(3)- मेमोरी यूनिट/इंटरनल रजिस्टर्स(Memory Unit/Internal Registers)- यह सी.पी.यू. की तीव्र गति की मेमोरी होती है। कन्ट्रोल यूनिट प्रमुख मेमोरी के आपरन्ड्स की वैल्यू पढ़कर इंटरनल रजिस्टर्स में स्टोर कर देती है। जहां ए. एल. यू. इन्हें ग्रहण करती है। इनके अतिरिक्त ए. एल. यू. माध्यमिक परिणामों को अस्थायी रूप से स्टोर करने के लिए भी इन रजिस्टर्स का उपयोग करते है।

सी.पी.यु. से सम्बंधित शब्द

रजिस्टर (Registers)

अनुदेशों की व्याख्या एवं उनके कार्यों को सम्पादित करने के लिए कंप्यूटर बहुत- सी मेमोरी इकाइयों का प्रयोग करता है, जिन्हें रजिस्टर करते हैं। रजिस्टर की लम्बाई इसमें संग्रहित होने वाले बिट्स की संख्या के बराबर होती है। एक रजिस्टर को 8 बीट का संग्रहण करता है, 8 बीट रजिस्टर कहलाता है। कुछ रजिस्टर जो सभी कंप्यूटर में सर्व होते हैं निम्नलिखित हैं-

(1)- मेमोरी ऐड्रेस रजिस्टर (Memory Address Register)- वे रजिस्टर जो क्रियाशील मेमोरी के स्थान का पता लगाते हैं, मेमोरी एड्रेस रजिस्टर कहलाते हैं।

(2)- मेमोरी में बफर रजिस्टर (Memory Buffer Register)- इन प्रकार का रजिस्टर स्मृति शब्द के कन्टेन्ट को रखता है, जिन्हें मेमोरी द्वारा पढ़ा या मेमोरी में लिखा जाना है। एक अनुदेशन शब्द, जो इस रजिस्टर में पाया जाता है, इंसट्रक्शन रजिस्टर को स्थानान्तरित होता है।

(3)- प्रोग्राम कन्ट्रोल रजिस्टर (Programme Control Register)- कंप्यूटर से निष्पादित होने वाले अगले अनुदेशों का पता रखने हेतु इसका उपयोग किया जाता है।

(4)- एक्यूमुलेटर रजिस्टर (Accumulator Register)- यह वह रजिस्टर है जिसमें सिस्टम द्वारा उत्पादित किये गये परिणाम को एकत्रित किया जाता है। प्रमुख अनुदेशन के निष्पादन के समय इनका उपयोग किया जाता है, अधिकांश कंप्यूटर में एक से अधिक एक्यूमुलेटर रजिस्टर होते हैं।

(5)- इंसट्रक्शन रजिस्टर (Instructions Register)- इसका प्रयोग निष्पादित होने जा रहे वर्तमान अनुदेशों को रखने के लिए किया जाता है।

(6)- इनपुट/आउटपुट रजिस्टर (Input/Output Register)- इसका उपयोग इनपुट/आउटपुट डिवाइस के साथ संचालित होने के लिए किया जाता है। इनपुट डिवाइस के अनुसार सभी इनपुट इंफॉर्मेशन और डाटा इस रजिस्टर को स्थानान्तरित होते हैं, जबकि सभी आउटपुट इंफॉर्मेशन इस रजिस्टर द्वारा एक आउटपुट डिवाइस को भेजे जाते हैं।

बसेस (Buses)

बहुल रजिस्टर विन्यास में विभिन्न रजिस्टर के बीच सूचना के स्थानान्तरण हेतु अधिक प्रभावी विधि कामन बस सिस्टम है। यह बस संरचना सामान्य रेखाओं (Common Lines) का एक समुच्चय लखती है, एक रजिस्टर के प्रत्येक बिट हेतु एक, जिसे बाइनरी सूचना स्थानांतरित होती है। नियंत्रण संकेत यह निर्धारित करता है कि प्रत्येक विशेष रजिस्टर के स्थानांतरण के समय बस(Bus) किस रजिस्टर को चुनता है।

डाटा लाइन एड्रेस लाइन एवं कन्ट्रोल लाइन को Input/Output बस रखता है। मैग्नेटिक डिस्क, प्रिंटर और टर्मिनल व्यापक उद्देश्य वाले कंप्यूटर के साथ लगे होते हैं। प्रत्येक इंटरफेस , एड्रेस को डि-कोड करता है इनका नियंत्रण Input/Output बस द्वारा प्राप्त करता है। सहायक उपकरणों हेतु उनकी व्यवस्था करता है और सहायक उपकरणों के नियन्त्रकों के लिए संकेतों को उपलब्ध करता है।

प्रोसेसिंग स्पीड (Processing Speed)

प्रोसेसिंग स्पीड यह बताता है कि कोई भी सूचना कीस गति से प्राप्त हो रही है, समझी जा रही है तथा उसके प्रति प्रतिक्रिया कर रही है। प्रत्येक व्यक्ति अथवा कंप्यूटर के कार्य की गति अथवा सोचने की छमता एक समान नहीं होती है। एक बच्चा कितनी तीव्र बुद्धि वाला है अथवा वह अपने कार्य किस गति से अथवा कितनी जल्दी समाप्त कर लेगा, यह उसके कार्य करने की गति पर निर्भर करता है। ठीक इसी प्रकार कंप्यूटर की भी एक कार्य करने की गति होती है जो यह बताती है कि वह किस गति से तथा कितने समय में उस कार्य को समाप्त करेगा।

सी.पी.यू. में अनुदेशों की एक सारणी होती है जिससे कंप्यूटर प्रोग्राम चलते हैं। सीपीयू के कार्य की स्पीड को Hertz (Hz) में मापा जाता है। आधुनिक प्रोसेसर त्वरित गति से कार्य करने वाले होते हैं इसलिए Hertz के स्थान पर GHz का प्रयोग किया जाता है। एक गीगाहर्ट्ज एक अरब चक्र प्रति सेकंड के बराबर होता है। प्रोसेसिंग स्पीड क्लॉक स्पीड पर निर्भर करती है।

क्लॉक स्पीड (Clock Speed)

क्लॉक स्पीड का तात्पर्य उन गति सेकंड कम्पनों की संख्या से है जो एक कम्पन ऑसीलेटर द्वारा जनरेट होते हैं। यह दोलक प्रोसर की गति सेट करते हैं। क्लॉक स्पीड को सामान्यतः मेगा हर्ट्ज (प्रति सेकंड मिलियन कम्पन) या गीगा हर्ट्ज (प्रति सेकंड बिलियन कम्पन) से मापा जाता है। आज के पर्सनल कंप्यूटर सैकंडों मेगाहर्ट्ज कम्पन की गति से चलते हैं और कुछ गीगा हर्ट्ज से अधिक गति से होते हैं। क्लॉक स्पीड को क्वार्ट्ज क्रिस्टल सर्किट से निर्धारित किया जाता है।

इस प्रकार का प्रोसेसर खरीदना आकर्षक हो सकता है क्योंकि दुकानदार क्लॉक स्पीड का विज्ञापन करते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि चिप की बनावट, कैश और अन्य कारक कम्प्यूटिंग स्पीड को प्रभावित करते हैं। क्लॉक स्पीड चक्रों की संख्या को सन्दर्भित करता है जो कि एक प्रोसेसर प्रति सेकंड निष्पादित करता है। यदि कंप्यूटर 3. 1 गीगा हर्ट्ज का है तो वह प्रति सेकंड 3. 1 बिलियन चक्र निष्पादित करता है।

प्रोसेसिंग स्पीड की विशेषता (Characteristics of Processing Speed)

प्रोसेसिंग या सिस्टम क्लॉक की विशेषताएं निम्नलिखित हैं-

(1)- सिस्टम क्लॉक कम्पन क्वार्ट्ज क्रिस्टल के आधार पर सी.पी.यू. के लिए गति सेट करती है।

(2)- क्लॉक के एक टिक के बराबर का समय ट्रांजिस्टर को ऑल/ऑफ करने में लगता है। इसे एक क्लॉक चक्र कहा जाता है।

(3)- क्लॉक चक्र को हर्ट्ज में मापा जाता है। यदि एक कंप्यूटर की क्लाक स्पीड 300 हर्ट्ज है तो 1 सिस्टम क्लॉक 300 मिलियन प्रति सेकंड टिक करती है।

(4)- पर्सनल कंप्यूटर जितना तीव्र गति का होगा, उतने ही निर्देश प्रति सेकंड निष्पादित करता है।

निष्कर्ष :

हम आशा करते है कि सी.पी.यू.क्या है (CPU Kya hai), CPU in Hindi, आदि सभी प्रकार के जवाब मिल गए होंगे अगर आपका अभी भी कोई सवाल है तो हमें कमेंट करके पूछ सकते है अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकि उन्हे भी सी.पी.यू.क्या है (CPU Kya hai) से रिलेटेड सभी सवालो के जवाब मिल जाये।

!!!!! जानकारी अच्छी लगे तो शेयर जरूर करना DEAR !!!!!

0Shares

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!