Saturday, 21 September, 2019

Fingerprint Scanner kaise Kaam Karta Hai ? (In Hindi)


Android Smaartphone के ज़माने में अब Fingerprint Scanner का होना आम बात हो गयी है सभी स्मार्टफोन कंपनी अपने फ़ोन को ज्यादा Secure बनाने के लिए Fingerprint Scanner का यूज़ करते है लेकिन बहुत से लोगो को मालूम नही होगा की फिंगरप्रिंट स्कैनर काम कैसे करता है और यह कितने प्रकार का होता है और यह काफी फ़ास्ट क्यों होता है क्यो इसकी वजह से हमारे मोबाइल की सिक्यूरिटी काफी बढ़ जाती है| और कोई उसका मिस यूज़ नहीं कर सकता है तो चलिए आज हम आपको फिंगरप्रिंट की सारी जानकारी इस ब्लॉग में बताने वाले है

Fingerprint scanner :

Figure -1

यह भी पढ़े :Realme X Specification & Review In Hindi

फिंगरप्रिंट स्कैनर एक बहुत अच्छी Technology है जो Smartphone को काफी Secure बनाता है और यह काफी तेज़ भी होता है फिंगरप्रिंट स्कैनर का सबसे पहला स्मार्टफोन Motorola Atrix था जिसे सार्वजनिक रूप से 2011 में लॉन्च किया गया था। इन सभी फोन में Optical Sensor का इस्तेमाल किया गया था। कैपेसिटिव फिंगरप्रिंट सेंसर वाला पहला डिवाइस IPhone 5s था और Under Screen Fingerprint Sensor वाला पहला डिवाइस Vivo का डिवाइस था

Fingerprint Scanner काम कैसे करता है ?

Figure -2

फिंगरप्रिंट स्कैनर कुछ इस तरीके से काम करता है कि आप ने अपने स्मार्टफोन में अपना फिंगरप्रिंट एनरोलड किया हो और जब आप Fingerprint Scanner पॉइंट पर जब हम अपनी अंगुली रखते है| तो वह हमारी अंगुलियों के ऊपर पाए जाने वाले माइक्रो लेयर (लकीर) को स्कैन करता है और उसे अपने पहले से मौजूद डाटा में मिलान करता है और पहले से मौजूद फिंगरप्रिंट एनरोलड डाटा से अगर फिंगरप्रिंट मिलान करता है तो वह फ़ोन अनलॉक हो जाता है और अगर फिंगरप्रिंट एनरोलड डाटा से मिलान नहीं हुआ तो वह Error का Massage आता है And आपका फ़ोन अनलॉक नहीं होता है

यह भी पढ़े : SSD vs HDD Kya Hota Hai ? Explained

Fingerprint Scanner क्या सिक्योर है ?

Fingerprint Scanner के सिक्योरिटी का सवाल है तो यह काफी हद तक Secure है Because यह उंगलियों के लेयर इमेज से मिलान करके ही फ़ोन अनलॉक होता है लेकिन कुछ शोधकर्ताओं का सुझाव है कि स्मार्टफोन उपयोगकर्ता अपने सबसे संवेदनशील ऐप जैसे मोबाइल भुगतान के लिए फिंगरप्रिंट प्रमाणीकरण को बंद करके अपनी सुरक्षा कर सकते हैं। “वह Fingerprint Sensor आपके फोन पर उतना सुरक्षित नहीं है” जितना हम और आप सोचते हैं। But यह फेस लॉक के मुकाबले काफी सुरक्षित है ऐसा माना गया है

यह भी पढ़े : eMMC UFS Storage क्या है Explained

Types of Fingerprint scanner :

फिंगरप्रिंट स्कैनर 3 प्रकार के होते है जो निम्न है

  1. Optical Fingerprint Scanner ( ऑप्टिकल फिंगरप्रिंट स्कैनर )
  2. Capacitive Fingerprint Scanner ( कपैसिटिव फिंगरप्रिंट स्कैनर )
  3. Ultrasonic Fingerprint Scanner ( अल्ट्रासोनिक फिंगरप्रिंट स्कैनर )

1- Optical Fingerprint Scanner :

Figure -3

Optical Technology सामान्य तौर पर किसी भी चीज़ को संदर्भित कर सकती है जो प्रकाश या दृष्टि से संबंधित होती है, चाहे वह दृश्यमान प्रकाश या अवरक्त प्रकाश हो यह अच्छा कार्य करता है। Optical Technology मुख्यत Led Light के द्वारा अंगूलियो की इमेज को एनक्रिप्ट करके एक डाटा कोड के रूप में सेव कर लेता है And जब दुबारा हम इस पर किसी काम के लिए या मोबाइल को अनलॉक करने के लिए अपनी अंगूलियो को स्कैन करते है तो यह पुन: अंगूलियो की इमेज लेकर उन्हें पहले से मौजूद डाटा कोड से एनक्रिप्ट करके आपस में मिलान करता है |And जब भी हम अपने मोबाइल को अनलॉक करने के लिए दुबारा अंगूली लगाते है| तो यह हमारे अंगूलियो के राइड्स, मार्क्स, और अंगूलियो पर पाई जाने वाली लाइन्स को Campare करती है और फिंगरप्रिंट डाटा मैच होने पर ही एक्सेस करने देती है|

यह भी पढ़े : Quora से पैसे कैसे कमाए ?

2- Capacitive Fingerprint Scanner :

Figure -4

Capacitive फिंगरप्रिंट टेक्नोलॉजी कैपेसिटिव सेंसिंग (कभी-कभी कैपेसिटेंस सेंसिंग) एक तकनीक होती है जो किसी भी ऐसी चीज़ का पता इलेक्ट्रिक कैपेसिटिव कपलिंग द्वारा लगा सकती है इस प्रकार के Scanner में अंगूलियो के मार्क्स या लेयर की जानकारी को सेव करने के लिए Conductive कैपासिटर का उपयोग किया जाता है| इसमे Fingerprint की इमेज जैसे अंगुली के उभरे हुए हिस्से और खाली स्थान को अलग -अलग इलेक्ट्रॉनिक चार्ज के रूप में कैपासिटर में सेव करके रखा जाता है, और जरुरत पड़ने पर इसी तरह से स्कैन करके उनका Comparing किया जाता है| और वेरीफाई हो जाने पर यूजर को Access दे दिया जाता है| इससे मोबाइल फ़ोन की सिक्यूरिटी काफी बढ़ जाती है| और यह थोड़ी एक्सपेंसिव भी होती है

यह भी पढ़े : Huawei P30 Pro Specification

3- Ultrasonic Fingerprint Scanner :

Figure -5

Ultrasonic टेक्नोलॉजी पूर्ण रूप से डिजिटली है वास्तव में अल्ट्रासोनिक टेक्नोलॉजी टन 20 kHz तक डाटा का ट्रांसफर करता है जो हमारी लिहाज से काफी ज्यादा तेज़ है इस प्रकार के Scanner में अल्ट्रासोनिक ट्रांसमीटर और रिसीवर लगा होता है जो काफी फ़ास्ट होता है जब हम इस पर अपनी अंगूलियो को रखते है तो यहअल्ट्रासोनिक किरणों द्वारा Scanner कुछ पल्स को Scan करता है इन पल्स में से कुछ पल्स ही हमारे अंगूलियो से टकराने के बाद वापस आ जाती है | इन प्राप्त प्लस के आधार पर यह एक 3D इमेज तैयार होता है और उसे एनक्रिप्ट करके उसे अपने डेटाबेस में सेव कर लेता है| और बाद में जरुरत पड़ने पर Store Database से वेरीफाई करता है | हालाँकि यह अब तक कि सबसे नयी Technology है जो Qualcomm Company के द्वारा बनायीं गयी है | जिसका प्रयोग Le Max Pro में सबसे पहले इस्तेमाल किया गया है |

यह भी पढ़े : Oneplus 7 Specification

Fingerprint Some Fact ?

Fingerprint Scanner के कुछ नेगेटिव रिजल्ट भी है जो हमारी पुरानी फिंगरप्रिंट स्कैनर टेक्नोलॉजी थी उसे कुछ हद तक फिंगरप्रिंट को Bypass किया जा सकता था पर आज कि टेक्नोलॉजी इस तरह से विकसित हो रही है इसे Bypass नहीं किया जा सकता है लेकिन कुछ शोधकर्ताओ का कहना है कि इसे Bypass करके किसी के भी पर्सनल चीजों को एक्ससेस किया जा सकता है But कुछ का कहना है कि यह नहीं हो सकता है लेकिन मेरे नजरिये में तो यह सुरक्षित है अगर सीधे शब्दो में कहु तो यह नामुमकिन है

जानकारी अच्छी लगे तो शेयर जरूर करना Dear !!!!Thank You

0Shares

3 comments on “Fingerprint Scanner kaise Kaam Karta Hai ? (In Hindi)

[…] यह भी पढ़े : Fingerprint Scanner kaise Kaam Karta Hai […]

[…] यह भी पढ़े : Fingerprint Scanner kaise Kaam Karta Hai […]

[…] यह भी पढ़े : Fingerprint Scanner kaise Kaam Karta Hai […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Popular Category

error: Content is protected !!